जौनपुर: निजी अस्पताल मे डिलीवरी के बाद हंगामा, जच्चा की हालत गंभीर

जौनपुर: निजी अस्पताल मे डिलीवरी के बाद हंगामा, जच्चा की हालत गंभीर

जौनपुर: बदलापुर कोतवाली क्षेत्र के कठार गांव निवासी सूरज कुमार अपनी गर्भवती पत्नी प्रतिमा उर्फ कंचन को लेकर बदलापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचा। जहां डाक्टरो द्वारा जांच के बाद डिलवरी एक दिन बाद होने की बात कही गयी। वहीं सूरज का आरोप है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहले से मौजूद एक आशा कार्यकत्री के पति ने उसे बहला फुसलाकर उसकी पत्नी को एक निजी कमला हास्पिटल एण्ड सर्जिकल सेंटर मे भर्ती करवा दिया। जहां गरीब सूरज को यह नहीं पता था कि उसे भारी भरकम रूपए देना पड़ेगा। वहीं रूपए ऐठने के चक्कर मे आशा पति और निजी चिकित्सक द्वारा जल्द से जल्द आपरेशन करने की बात कही तो सूरज ने आपरेशन कराने से मना करते हुए नार्मल डिलीवर कराने की बात कही।इसके बावजूद भी उक्त निजी चिकित्सक द्वारा गर्भवती महिला का आपरेशन किया गया। महिला ने एक बच्ची को जन्म दिया फिर भी डाक्टर ने जन्म ली बेटी को पीलिया की शिकायत बताते हुए करीब एक सप्ताह तक अस्पताल में भर्ती कर लिये और रूपए का बिल बनाते रहे।पीड़ित का आरोप है कि उक्त डाक्टर द्वारा महिला को आपरेशन करने के बाद जो टांका लगाये थे वह टूट चुका था। जिससे महिला की हालत गंभीर बनी हुई थी। जहां उसका पति उक्त अस्पताल से पत्नी को डिस्चार्ज करवाना चाहा तो उक्त निजी अस्पताल के डॉक्टर द्वारा डिस्चार्ज करने से मना कर दिया। करीब 17 हजार रूपए का बिल जमा करने की बात कही गई तो उसके पति के होस उड़ गए। मामला बढ़ता देख बदलापुर कोतवाली पुलिस भी मौके पर पहुंची और किसी तरह दोनों लोगों को समझा बुझाकर मामला शांत कराया।वहीं टांका टूटने से महिला की हालत गंभीर देखते हुए परिजनों ने उसे पुनः बदलापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मे भर्ती करवाया। पीड़ित महिला के पति सूरज कुमार ने लिखित शिकायत जिलाधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी,एसडीएम व चिकित्साधीक्षक बदलापुर को देते हुए अपनी पत्नी की जान माल की गुहार लगाई है। हाफ़िज़ नियामत- शारदा न्यूज़