जौनपुर: अपहरण के 12 घंटे बाद ही खोज निकाला बालक, ऐसे चला पुलिस का सर्च ऑपरेशन

जौनपुर: अपहरण के 12 घंटे बाद ही खोज निकाला बालक, ऐसे चला पुलिस का सर्च ऑपरेशन

जौनपुर। जौनपुर में रविवार को दिनदहाड़े हुए बच्चे के अपहरण से पूरे जिले में हाहाकार मचा था लेकिन पुलिस और एसओजी टीम ने 12 घण्टे के अंदर ही अपहरण कर्ताओं के चंगुल से ना सिर्फ बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया बल्कि 5 अपहरणकर्ताओं को भी गिरफ्तार कर लिया है। अपहरण कर्ताओं को गिरफ्तार करने वाली पुलिस और एसओजी की टीम को एसपी जौनपुर ने 15 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा किया है। शातिर बदमाश है जिन्होंने पैसे की फिरौती के लिए एक बच्चे के अपहरण का ना सिर्फ प्लान बनाया बल्कि अपने प्लान को अंजाम भी दे डाला। खुटहन थाना क्षेत्र के तिघरा बाजार निवासी प्रवेश अग्रहरि का बेटा घर के बाहर खेल रहा था तभी ये बदमाश बाइक से पहुँचे और बच्चे को दुकान से सामान लाने के लिए कहा। बच्चा जैसे ही दुकान की तरफ बढ़ा की बाइक सवार इन बदमाशों ने बच्चे को जबरन उठा लिया और वहां से लेकर फरार हो गए । अपहरण कर्ताओं ने बच्चे को मुंह को बांध रखा था और उसे एक कमरे में बंद कर दिए थे। बच्चे के अपहरण होने की सूचना मिलते ही परिजन भाग कर पुलिस के पास पहुँचे और मदद की गुहार लगाई। एसपी जौनपुर ने मामले को गंभीरता से लेते हुए दस टीम गठित किया और 12 घण्टे के अंदर ही अपहरण कर्ताओं को गिरफ्तार कर बच्चे को उसके परिजनों को सौंप दिया। बेटे को पाने के बाद परिजनों के खुशी का ठिकाना नही है माँ अपने कलेजे के टुकड़े को गले लगाकर रो रही है तो वही पिता पुलिस की पूरी टीम को माल्यार्पण करके उनका आभार ब्यक्त करते नही थक रहे है। इस अपहरण कांड का मास्टरमाइंड भी खुटहन थाना क्षेत्र के तिघरा बाजार का रहने वाला दीपक गुप्ता था जिसने अपने बगल के रोहित गुप्ता और सुरेश गौतम व खेतासराय के अमन यादव और सरायख्वाजा के खिचडू बिंद के साथ मिलकर इस घटना को अंजाम दिया। एसपी जौनपुर राजकरन नय्यर ने बताया कि अपहरण कांड का खुलासा करने पुलिस के लिए एक चैलेंज था क्योंकि कोई सीसीटीवी फुटेज भी नही था लेकिन एसओजी और पुलिस की टेक्निकल टीम ने पूरी रात जागकर मेहनत किया जिसका नतीजा ये रहा कि सुबह तक सभी अपहरण कर्ता गिरफ्तार कर लिए गए और बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया गया।